दिव्यकीर्ति सम्पादक-दीपक पाण्डेय, समाचार सम्पादक-विनय मिश्रा, मप्र के सभी जिलों में सम्वाददाता की आवश्यकता है। हमसे जुडने के लिए सम्पर्क करें….. नम्बर-7000181525,7000189640 या लाग इन करें www.divyakirti.com ,
7k Network

होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.
7k Network

कहीं हत्या के इरादे से तो नही आए भाड़े के गुंडे, इस पत्रकार की जान मुसीबत में

 

 

इस पत्रकार की हत्या करने पर उतारू भू-माफियाओ की करतूत सीसीटीवी कैमरे में कैद

विनय मिश्रा….

बड़ा अफसोस होता है एक पत्रकार जिसने समाज के हर मुद्दे को लोगों से सरोकर कराया हर उस पहलू पर शासन -प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया जिसे देश-प्रदेश व समाज हित मे जरूरी समझा जाता है किंतु पत्रकार ही मजलूम हो जाए और उसे ही पैरवी की जरूरत पड़े तो सवाल किस पर उठाया जाए।
विराट नगरी की यह धरा आज धरा विहीन हो गई है जहाँ पैर कचरने के लिए भी ठौर नही है।कभी तालाबों की नगरी कही जाने वाली इस धरा के सम्पूर्ण तालाब भूमाफियाओं द्वारा लील लिए गए तो बचे हुए शासकीय जमीनों को भी भूमाफिया नोच खाए।
शहडोल मुख्यमार्ग से लेकर बुढार तक रसूखदारों ने अपनी सेटिंग जमाकर सैकड़ों जमीनों का हेरफेर किया है। नव निर्वाचित मुख्यमंत्री का नया आला कमान भले ही सिस्टम को सुधारने की फिराक में हो किन्तु अरसों से बैठे भ्रष्ट अधिकारी और उनके पैरोकार नजूल से लेकर नदी तालाबों को बेचने में आमदा हैं और यदा-कदा पत्रकार ने अगर मुहिम को समाज के समक्ष रखा,तो उसे धमकी,जान से मारने,देख लेने,झूठे मुदकमे में फँसाने जैसे षडयंत्र रचे जाते हैं जिसका हालिया नजारा शहडोल जिले में देखने को मिला जहाँ पत्रकार मुनीर खान की गाड़ी तोड़फोड़ कर उसे देख लेने की धमकी दी गई।हद है ऐसे सिस्टम पर जहाँ एक माफिया इतना भयभीत होकर कार्य करता है और एक पत्रकार पर घात करता है फिलहाल माँमले में पत्रकार ने वरिष्ठ अधिकारियों को चेताया है देखना यह है कि समाज और सिस्टम की रक्षा करने वाले जिम्मेदार इस पर क्या कार्यवाही करते हैं।

शहडोल।।

जिले की जनता को जागरूक करना पीड़ितो की समस्याओं को आला अधिकारियों के संज्ञान में लाना मीडिया का मूलतः कार्य है लेकिन पत्रकारो के सतत जागरूकता निष्पक्षता अब लोगों की आंख की किरकिरी बन गई, जिसके चलते अब आपराधिक पृष्ठभूमि और अवैध गतिविधियों को अंजाम देने वाले लोगों ने लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को खोखला करने पर आमादा है, दरअसल दो दशकों से शहडोल में भू-माफियाओ का बोलबाला है अवैध तरीके से जमीन की खरीद बिक्री का इस कदर खेला जा रहा खेल में ना जाने कितने लोगों को अपना घर बनाने का सपनों पर पानी फेर दिया है इस मामले में जिले के खोजीं खबरों के लिए प्रख्यात पत्रकार मोहम्मद मुनीर ने बड़ा प्रमाणित दस्तावेजों के आधार पर खुलासा किया कि माफियाओं का सिंडिकेट किस कदर हावी है शासकीय भूमि पर कब्जा कर रखा है तो कहीं पट्टे की भूमि पर जबरन निर्माण कार्य करा लिया जाता है ऐसे ही मामले में शिकायतकर्ता महिलाओं की शिकायत के आधार पर प्रकाशित खबरों और तहसीलदार एसडीएम और न्यायाधीश का खुलेआम उल्लंघन किया जाने की खबरों को प्रमुखता से प्रकाशित किया था जिसका शीर्षक 3-3 मजिस्ट्रेट और न्यायाधीश के आदेश को चुनौती देता भू-माफिया अभिषेक प्रकाशित किया
गया खबरों से तिलमिला उठा माफिया ने शहर की सबसे सुरक्षित कहे जाने वाले पांडवनगर में सुरक्षा में सेंध लगा 15-16 लाठी डंडों और हथियार से लैस होकर कालोनी में घुसकर जान से मारने का प्रयास किया।
देर रात इस पूरी घटनाक्रम सीसीटीवी कैमरे में क़ैद हो गई है जिसमें देखा जा सकता है कि दुपहिया वाहनों में सवार होकर आए हथियार बंद लोगों ने पत्रकार मोहम्मद मुनीर पर प्राणघातक हमला कर दिया।
अब मामले में पुलिस प्रशासन साक्ष्य के आधार पर घटनाक्रम की जांच उपरांत कार्यवाही की बात कह रहीं हैं जबकि वरिष्ठ पत्रकार मोहम्मद मुनीर को इस बात की पूरी पुष्टि हो चुकी है कि हमलावरों को किसने भेजा था, जिसमे दुपहिया वाहनों के नंबर और उनके हुलिया से हो चुकी है। पत्रकार मोहम्मद मुनीर ने बताया है कि मामले के तार चुकी शहर के भू-माफियाओ से जुड़े हैं इस कारण इस मामले में नामजद रिपोर्ट के बावजूद पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के नाम पर ही एफआईआर दर्ज की।।
इस घटनाक्रम के लगभग 48 घंटे से अधिक बीत चुके हैं पुलिस प्रशासन आम जनता की शिकायतो पर कितनी संजीदा होती है इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है।

Divya Kirti
Author: Divya Kirti

ये भी पढ़ें...

7k Network
error: Content is protected !!