दिव्यकीर्ति सम्पादक-दीपक पाण्डेय, समाचार सम्पादक-विनय मिश्रा, मप्र के सभी जिलों में सम्वाददाता की आवश्यकता है। हमसे जुडने के लिए सम्पर्क करें….. नम्बर-7000181525,7000189640 या लाग इन करें www.divyakirti.com ,
7k Network

होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.
7k Network

गंदा है पर धंधा है ये ! पुलिसिया सर्जरी – नियत और नीति पर दागियों का कब्जा

 

 

पुलिस विभाग के 35 अधिकारियों के ट्रांसफर पोस्टिंग में संशोधन, दागदार असफरों को मिली मलाई..,बेबस जंगलों की खाक छानने को मजबूर

रायपुर। छत्तीसगढ़ की नई साय सरकार ने शपथ के दो माह बाद प्रशासन और पुलिस में बड़ी सर्जरी की। पिछले सरकार में मलाईदार और प्रभावशाली पदों में रहे अधिकारियों को हटा दिया गया। कुछ को बिना विभाग के बैठाया तो कुछ को नक्सल क्षेत्र में पोस्टिंग की गई। दावा किया गया था कि पिछली सरकार में जिनके साथ अन्याय हुआ और लुपलाइन में रहें, उन्हें फ्रंट लाइन में लाया जाएगा। हाल ही में सरकार द्वारा जारी तबादला सूची देखकर ऐसा ही लगा। कर्मचारियों से लेकर अधिकारी और संगठन व सत्ता में खुशी भी थी, लेकिन 10 दिन के भीतर सूची बदल दी गई। थोक में पुलिस, प्रशासन और अन्य विभाग में संशोधन कर दिया गया। इससे सरकार की मंशा पर भी सवाल उठ रहा है कि क्या तबादला करते समय विचार नहीं दिया गया या अधिकारियों से चर्चा नही की गई। पुलिस विभाग में एक दिन में ही 35 अधिकारियों से ज्यादा का संशोधन किया गया है। भ्रष्टाचार के आरोप में खाली बैठाए गए आईएएस को भी अच्छा विभाग दे दिया गया। पीएचई, पीडब्ल्यूडी, परिवहन, पंचायत से लेकर सभी विभाग में यही रहा।
बिना ज्वाइनिंग किए संशोधन
शनिवार को 15 से ज्यादा इंस्पेक्टर, 12 डीएसपी और 8 एएसपी का संशोधन किया गया है। सूत्र बताते है इसमें जिन एएसपी को कैंप और नक्सल प्रभावित इलाके में भेजा गया था। सिर्फ अब कैंप में भेजे गए 6 में से तीन अधिकारी का ही संशोधन नहीं हुआ है। बाकी संशोधन करा लिए हैं। उन्हें वापस लौटा दिया गया है। जिनका ट्रांसफर हुआ है किसी ने अब तक ज्वाइन नहीं किया है। अधिकांश लोग बिना ज्वाइन के ही वापस आ गए हैं। सूत्रों के मुताबिक ट्रांसफर में इतनी विसंगती है कि रायपुर सिविल लाइन सीएसपी, डीएसबी, खैरागढ़ एसडीओपी, गंडाई, एटीएस चीफ, समेत कई पद खाली हैं।

राज्य में ट्रांसफर उद्योग चलने का आरोप

पिछले सरकार पर भ्रष्टाचार और ट्रांसफर उद्योग चलाने का आरोप लगाकर भाजपा सत्ता में आई है। लेकिन पिछले 3 माह की साय सरकार पर भी ट्रांसफर उद्योग चलाने का आरोप लगने लगा है। पुलिस और प्रशासनिक महकमे में चर्चा है कि जिनका संशोधन हुआ है कि उन्होंने पवारफुल जगह में पदस्थ ओएसडी और निज सचिव को मोटी रकम दी है। तभी कुछ टीआई व अधिकारी पहले ही दावा कर रहे थे कि उनका आदेश निरस्त हो जाएगा। पुरानी जगह पर ही रहेंगे। इसकी संघ में भी शिकायतें की गई। लोगों में चर्चा है कि कांग्रेस सरकार की राह में भाजपा सरकार भी चल रही हैं।

Divya Kirti
Author: Divya Kirti

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!