दिव्यकीर्ति सम्पादक-दीपक पाण्डेय, समाचार सम्पादक-विनय मिश्रा, मप्र के सभी जिलों में सम्वाददाता की आवश्यकता है। हमसे जुडने के लिए सम्पर्क करें….. नम्बर-7000181525,7000189640 या लाग इन करें www.divyakirti.com ,
7k Network

होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

विकास के नाम पर सिर्फ ठगा गया कोयलांचल – शैलेन्द्र श्रीवास्तव

तहसील बनने के 13 वर्ष बाद भी बुढ़ार तहसील में एसडीएम कोर्ट का संचालन प्रारंभ नहीं हो सका

◆ क्षेत्र के अस्पताल आज भी सिर्फ़ रेफ़र सेंटर

◆बेरोजगारी चरम पर

बुढार।।

दशकों बीत गए पर कोयलांचल को सिर्फ़ ठगा जाता रहा , ना कोई नया उद्योग ना कोई नया महाविद्यालय ना तो चिकित्सा सुविधाओं में कोई इज़ाफा और तो और 13 वर्ष बीत गए बुढ़ार को तहसील का दर्जा मिले हुए पर आज तक ना तो एसडीएम कोर्ट प्रारंभ हो सका ना ही रजिस्ट्री की सुविधा प्रारंभ हो सकी l सब कुछ होते हुए भी कुछ नहीं की स्थिति , आज भी शिक्षा का स्तर वहीं का वहीं, नए महाविद्यालय खुलने तो दूर जो एक मात्र शासकीय महाविद्यालय है उसके भी पूर्व में संचालित कई पाठ्यक्रम अब बंद किए जा चुके हैं l जहां तक बात चिकित्सा सुविधाओं की है तो कल भी हमारे यहाँ के अस्पताल सिर्फ़ रेफ़र सेंटर थे आज भी वही स्थिति बरकरार है l

रोज़गार की तो बात करना ही बेमानी है जब पकौड़े तलना ही रोज़गार हो चुका है तो फिर शायद कुछ कहने की ज़रूरत नहीं रह जाती है l इस बात के भी कोई मायने नहीं है कि संपूर्ण कोयलांचल क्षेत्र खनिज सम्पदा से भरा हुआ है कोयला और रेत दोनों प्रचुर मात्रा में है लेकिन पिछले तीन चार दशकों से ना तो कोई नया उद्योग स्थापित हो सका ना ही इस खनिज संपदा की लूट कम हो सकी, कोयला और रेत का अवैध कारोबार ज़रूर दिन दूनी रात चौगनी गति से बढ़ता चला गया l अवैध खनन और रेत माफियाओं की तो हमेशा से बल्ले बल्ले रही, इसी खनन और रेत माफिया ने राजनीति में भी अपनी जड़े अब हर दल में इतनी गहराई तक जमा ली हैं कि राजनीति भी अब इनकी चौखट की सिर्फ़ ग़ुलाम बन कर रह गई हैl

ऐसा भी नहीं है कि विकास के नाम पर कुछ नहीं हुआ, हुआ पर सिर्फ़ वही निर्माण कार्य हुआ जिससे मोटी कमाई की जा सके, बुढ़ार की बदहाल मॉडल रोड और नगरपालिका परिषद धनपुरी का एलईडी लाइट घोटाला इसका जीता जागता उदाहरण है l

वर्षों बाद जब मीथेन गैस मिली तो लगा कि अब क्षेत्र में नई रिफ़ाइनरी स्थापित होगी और हज़ारो लोगों को नया रोज़गार मिल सकेगा, रिलायंस सीबीएम प्रोजेक्ट आया और मीथेन पाइप लाइन से कहीं और भेज दी गई, और लोगों की उम्मीदें धरी की धरी रह गईं l

ना जाने क्यों किसी तेज तर्रार अधिकारी की इस ज़िले में पद्स्थापना ही नहीं की जाती, पिछले कई दशकों में बिरले ही अधिकारी ऐसे आये जिनके आने से कोयलांचल समेत पूरे ज़िले को उम्मीद की एक नई किरण दिखाई पड़ी, पर चाहे वो निडर आईएएस अधिकारी लोकेश जांगीड रहे हो या सबके चहेते ईमानदार आईपीएस अधिकारी अवधेश गोस्वामी, इनमें से कोई भी इस ज़िले में ज़्यादा दिन तक रुक नहीं पाया l

13 वर्ष बीत गए बुढ़ार को तहसील का दर्जा मिले हुए पर आज तक ना तो एसडीएम कोर्ट प्रारंभ हो सका ना ही रजिस्ट्री की सुविधा प्रारंभ हो सकी, हैरानी की बात तो ये है कि जब जनता ने आवाज़ उठाई तो एक नहीं बल्कि दो दो बार एसडीएम कोर्ट का संचालन प्रारंभ हुआ पर सिर्फ़ एक ही दिन के लिए, फूल और गुलदस्तों के मुरझाने से पहले ही दूसरे ही दिन कोर्ट का संचालन किसी ना किसी कारण से बंद कर दिया गया, पता नहीं वे कौन से लोग हैं जो नहीं चाहते कि बुढ़ार में एसडीएम कोर्ट प्रारंभ हो l हो सकता है कि ये वही खनन या रेत माफिया हो जिसको डर हो कि उनके अवैध उत्खनन में अर्चन ना आने लगे , पर इससे भी कहीं ज़्यादा हैरानी की बात तो ये है कि दोनों बार इस पूरे नाटकीय घटनाक्रम पर क्षेत्र के जनप्रतिनिधि बिलकुल मौन रहे l

इसलिये मैंने कहा कि विकास के नाम पर कोयलांचल को सिर्फ़ और सिर्फ़ ठगा गया l

 

Divya Kirti
Author: Divya Kirti

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!