दिव्यकीर्ति सम्पादक-दीपक पाण्डेय, समाचार सम्पादक-विनय मिश्रा, मप्र के सभी जिलों में सम्वाददाता की आवश्यकता है। हमसे जुडने के लिए सम्पर्क करें….. नम्बर-7000181525,7000189640 या लाग इन करें www.divyakirti.com ,
7k Network

होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.
7k Network

भिंड-मुरैना की तर्ज पर रेत माफियाओं ने कुचला पटवारी को

चम्बल की घाटी में तब्दील हो रहा विराट धरा

मानसून सत्र में जारी था जिले में अवैध रेत उत्खनन, पुलिस व खनिज विभाग की भूमिका पर सवाल

विपक्ष ने भी उठाया था मसला

मप्र में स्तब्ध करने वाली ह्रदय विदारक घटना, चिन्हित किए जाएँ रेत उत्खनन करने वाले माफिया व उनके सहयोगी

इधर जेसीबी मालिक लगाता रहा थाने के चक्कर, कप्तान की दहलीज पर भी नही मिला न्याय

दिव्य कीर्ति शहडोल।।

बीते कुछ महीनों से चुनाव को अवसर बनाकर रेत माफिया पूरे जिले की नदियों में नदियों का चीरहरण कर रहे थे रेत के इस अवैध उत्खनन ने कई जिम्मेदारों की कार्य प्रणाली पर सवाल खड़े किए जिले के अंतिम छोर बुड़वा की रेत निकासी तो बीते कुछ वर्षों से सुर्खियों में था जिसमे पुलिस के बड़े अफसरों के नाम मे भी शामिल थे यही नही बुड़वा के महाजनों से लेकर आमखास की जुबां पर पुलिस के उस अफसरान का नाम था किन्तु उस ढील के बाद ब्यौहारी क्षेत्र में रेत का कारोबार धड़ल्ले से जारी रहा जिसका परिणाम आज एक पटवारी की जान के कीमत के रूप में चुकाना पड़ा ।

जिले के नरवार, पटासी, सोन टोला, श्यामडीह, बुड़वा, सथनी, बरहाई, बटली घाट, समेत अन्य जगहों पर खुलेआम रेत माफिया रेत का अवैध उत्खनन कर रहे थे। स्थानीय खाकी और खनिज विभाग की उदासीनता के कारण यह उत्खनन चरम पर था नौबत ये हो गई थी कि विपक्ष ने भी आंदोलन की चेतावनी दे डाला तब जाकर कहीं विभाग को एहसास हुआ कि अब पानी सिर से ऊपर जा रहा है और खुद की कुर्सी की सुरक्षा की खातिर जिला कलेक्टर के आदेश पर विभाग ने दबिश देना शुरू किया।

ये है पूरा मामला

बीती रात अवैध उत्खनन रोकने गए पटवारी को रेत माफियाओं ने ट्रेक्टर से कुचल दिया है,पटवारी प्रसन्न सिंह की मौके पर मौत हो गई ।अवैध उत्खनन कर परिवहन कर रहे ट्रेक्टर को पकड़ने गए पटवारी प्रसन्न सिंह ब्यौहारी को रेत माफियाओं ने मौत की नींद सुला दी गौरतलब है कि पटवारी प्रसन्न सिंह खड्डा में पदस्थ थे व अपने अन्य पटवारी साथियों के साथ देवलोन्द थाना क्षेत्र के गोपालपुर के सोन नदी में हो रहे अवैध उत्खनन को पकडने गए थे।

कानून व्यवस्था बेलगाम

बीते कुछ माहों से जिले की कानून व्यवस्था बे लगाम घोड़े की तरह हो गई है माफिया मैनेजमेंट ने आखिरकार राजस्व अमले के एक सिपाही की जान ले ली जिले में जुआँ खेलने की रंजिश से दो हत्याओं का माँमला अभी थमा नही था कि एक नए किस्से ने मोड़ ले ली।जिस हिसाब से शहर में तमाम अवैध कारोबार पनप रहे हैं उससे अंदेशा लगाया जा सकता है कि जिले की पुलिस व्यवस्था कितना चेतन्न है।ब्यौहारी से लेकर जिले की दर्जनों नदियों में आपराधिक प्रवत्ति के लोग हथियार लेस होकर रात के अंधेरे में पूरी रात रेत निकासी की आड़ में किसी न किसी वारदात को कारित करते थे स्थानीय थानों की खुली छूट के चलते ये आपराधिक तत्व निरंकुश होकर तमंचे की नोक पर शहर में भय का माहौल फैलाते थे।

एक छोटा सा नमूना बुढार थाने के एक फरियादी का देख लें जिसकी जेसीबी भाड़े की आड़ से लेकर रेत माफिया उसे नदी पर उतार दिया और अब न ही उसका जेसीबी दे रहे हैं और न ही किराया।सूत्र बताते हैं कि फरियादी को उस थाने से न्याय नही मिला बल्कि थाने से उसे कोर्ट जाने की समझाईश दी जा रही है।

एडीजी सहित एसपी, कलेक्टर की प्रतिक्रिया

कलेक्टर वंदना वैद्य ने जानकारी दी है कि शुक्रवार की रात्रि के ब्योहारी तहसील के अंतर्गत आज ग्राम बुढ़वा के गोपालपुर क्षेत्र में रेत के अवैध उत्खनन करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की गई एवं रेत माफियाओं के द्वारा गश्ती टीम पर हमला हुआ जिसमें पटवारी प्रसन्न सिंह की मौके पर ही मृत्यु हो गई। उन्होंने बताया कि ट्रैक्टर को जप्त कर लिया गया है और रेत माफियाओं के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जा रही है। कलेक्टर ने बताया कि मृतक पटवारी के परिजनों को सहायता राशि भी प्रदान की जा रही है।

वहीं इस संबंध में पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक माँमले में तत्काल संज्ञान लेते हुए धारा 302 भादवि एवं अन्य धाराओ के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। घटनाक्रम पर आरोपी की गिरफ्तारी हेतु देर रात ही अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक शहडोल जोन दिनेश चंद्र सागर द्वारा आरोपी के विरुद्ध 30,000 के इनाम की उद्घोषणा की गई है। घटना में प्रयुक्त ट्रेक्टर वाहन को जप्त किया गया। पुलिस द्वारा घटना में संलिप्त आरोपी को घटना के बाद शीघ्र ही गिरफ्तार कर लिया गया और एफआईआर दर्ज कर लिया गया है।

Divya Kirti
Author: Divya Kirti

ये भी पढ़ें...

7k Network
error: Content is protected !!