दिव्यकीर्ति सम्पादक-दीपक पाण्डेय, समाचार सम्पादक-विनय मिश्रा, मप्र के सभी जिलों में सम्वाददाता की आवश्यकता है। हमसे जुडने के लिए सम्पर्क करें….. नम्बर-7000181525,7000189640 या लाग इन करें www.divyakirti.com ,
7k Network

होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.
7k Network

शासकीय भूमि को खुर्द-बुर्द कर बेंच डाला तहसील के कारिंदे व दलालों ने

 

अलग-अलग लोगों के नाम से होता रहा शासकीय भूमि

पहले अशोक व विजय अब मालिक बने राहुल जेठवानी

विनय मिश्रा-700018125

 

कालेज से खैरहा मार्ग कभी बीहड़ और जंगल था जहाँ सड़क के किनारे लगे पेड़ आने-जाने वाले राहगीरों के लिए मिट्टी से कम नही थे यही नही इस मार्ग में रात्रि में गुजरते समय लोग मार्ग में लगे पेड़ को देखकर भय खाते थे । लोगों की बढ़ती जरूरतों ने आज उन पेड़ो को समतल प्लाट में तब्दील कर दिया और अब उन प्लाटों की कीमत करोड़ो में हो गई है।हलाकि इन प्लाटों को बेशकीमती बनाने में तहसील के कद्रदानों के अहम किरदार हैं जो जंगल झुड़पी शासकीय, जमीन को आगे पीछे कर उसे बेचने खरीदने लायक बना दिया और वहाँ आज सैकड़ो की तादाद में लोग आबाद हो गए हैं।

बुढार।।

माँमला बुढार से सटे कालेज तिराहे से खैरहा मुख्यमार्ग का है जहाँ खसरा क्रमांक 129 को तहसील के जिम्मेदार खुर्द-बुर्द करके उन्हें दलालों के हाँथो सुपर्द कर दिया यही नही उस शासकीय भूमि को बकायदे रजिस्ट्री करके अब बटांको में बेंचा जा रहा है तो कुछ बिक चुके हैं। इसी खसरा क्रमांक यानि 129 में ही तहसील व जमीन के दलालों ने अजब-गजब का खेल किया है जो संदेह ही नही बल्कि विभाग के दर्जनों वरिष्ठ- कनिष्ठ अधिकारियों पर सवाल खड़े करता है।

यह है पूरा मामला..

 

शासकीय भूमि खसरा क्रमांक 128,129 के एक हिस्से 129/1/1/2/3 को इतनी चालाकी व बारीकी से खेला किया गया है कि पूर्व रिकार्ड व वर्तमान रिकार्ड देखकर लोग गश्त खा जाएंगे। पूर्व खसरा क्रमांक 129 वर्तमान 129/1/1/2/3 2014-15 तक रिकार्ड में शासकीय था इसका रिकार्ड सुधारने के आदेश का हवाला देकर तत्कालीन तहसीलदार और पटवारी ने इसे निजी स्वामित्व का बना दिया बड़ा सवाल यह है कि आखिर किसके आदेश से इतना बड़ा हेरफेर हो गया। दर्ज प्रकरण क्रमांक 42/अ/6  वह बेमेल है यह खसरा क्रमांक की भूमि वर्तमान स्थान में न होकर यानि कालेज मार्ग में न होकर अमराडण्डी में दिखा रहा है उक्त भूमि के विक्रेता या रजिस्ट्री धारक अशोक व विजय नामक दो व्यक्ति हैं वर्तमान में इस भूमि के मालिक कोई राहुल जेठवानी हैं ।जबकि इस खसरा क्रमांक की रजिस्ट्री में स्पष्ट उल्लेख है कि इस रजिस्ट्री की अगर कहीं शिकायत की जाती है तो रजिस्ट्री निरस्त कर दी जाएगी।

ज्ञात हो खसरा क्रमांक 129 शासकीय अभिलेख में 11 हेक्टयर दर्ज है जिसके वर्तमान साक्ष्य नगरपालिका धनपुरी के बन रहे पूल,गार्डेन व अन्य शासकीय प्रयोजन के लिए हैं।

तहसील व एसडीएम कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी अगर उक्त भूमि के अभिलेखों का पुनः अवलोकन करें तो आभास हो जाएगा कि उक्त खसरा क्रमांक में ने कितना बड़ा खेला किया है।

Divya Kirti
Author: Divya Kirti

ये भी पढ़ें...

7k Network
error: Content is protected !!